Hindi Varnamala : Aa se Anar/क, ख,ग, घ, ङ – स्वर और व्यंजन के भेद एवं वर्गीकरण

Join Our WhatsApp Channel Join Now
Join Our Telegram Channel Join Now

हिंदी भाषा के ज्ञान के लिए हिंदी वर्णमाला Hindi varnamala की पूरी जानकारी होना आवश्यक है। आज हम बात करेंगे हिंदी वर्णमाला क्या है? Hindi Alphabet में कितने अक्षर (Hindi letters) होते हैं? Hindi alphabet में स्वर-व्यंजन क्या हैं और इनकी संख्या कितनी है?
इस लेख में Hindi letters से संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों का उत्तर देने का प्रयत्न किया गया है। यह लेख हिन्दी भाषा ज्ञान छोटे बच्चों से लेकर इच्छुक लोगों के अलावा प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले विधार्थियो के लिए भी समान रूप से उपयोगी है।

Hindi Varnamala

Hindi Alphabet Vowel (हिंदी वर्णमाला स्वर)

जिन वर्णों का उच्चारण करने के लिए किसी अन्य वर्ण की आवश्यकता नहीं होती उन्हें स्वर कहते हैं। हिंदी वर्णमाला में ग्यारह स्वर होते हैं।

अं | अः

Hindi Alphabet Consonant (हिंदी वर्णमाला व्यंजन)

ड़
hindi consonants

Hindi Varnamala Chart:-

It is necessary to possess complete knowledge of the Hindi alphabet (Hindi varnamala) for knowledge of Hindi language and literature. what’s Hindi alphabet? What percentage of letters (Hindi letters) are there in Hindi varnamala? What are vowel consonants in Hindi alphabet and what’s their number?

Hindi Varnamala
Hindi Varnamala

This article attempts to answer all questions associated with the Hindi alphabet. this text is equally useful for those that have an interest in knowledge of the Hindi language and for college kids preparing for competitive examinations.

हिंदी वर्णमाला क्या है? Hindi Varnamala kya hai

Hindi letters हिंदी का बेसिक कहते है। और हिंदी व्याकरण (Hindi Grammar) की आत्मा कहा जाता है। Hindi Varnamala को Hindi  Alphabet भी कहा जा सकता है।
“Hindi भाषा” शब्द की उत्पत्ति संस्कृत की “भाष” धातु से हुई है। जिसका अर्थ “बोलना या वाणी की अभिव्यक्ति”। इसकी लिपि “देवनागरी लिपि” है। जिस रूप में ध्वनि-चिन्ह या वर्ण लिखे जाते है ,उन्हें लिपि कहते है। “हिन्दी भाषा” भारत की सांस्कृतिक, जन जागरूकता एकता एवं सामाजिक सम्पर्क की भाषा है।

  • किसी भी भाषा की अभिव्यक्ति ध्वनियों के माध्यम से होती है। हम जो बोलते हैं, वे ध्वनियां हैं। इन्ही के माध्यम से हम अपने विचारों और भावनाओं को सामने उपस्थित व्यक्ति तक भाषा के माध्यम से ही पहुंचाते हैं।
  • हम विचार या भावनाएं लिखना चाहते हैं तो इन ध्वनियों को लिखने के लिए उस भाषा के चिन्ह (symbol) के रूप में प्रस्तुत करना होगा।
  • आज हम Hindi Varnamala (हिंदी वर्णमाला) स्वर और व्यंजन के भेद एवं वर्गीकरण का विस्तृत अध्ययन करेंगे।

NOTE:- हिन्दी वर्णमाला मुख्यतः दो शब्दों से मिलकर बना होता है।
वर्णमाला = वर्ण + माला

  • हिन्दी वर्णमाला:- वर्णो के व्यवस्थित समूह को वर्णमाला (Hindi Alphabet) कहते है।
  • वर्ण: – लेखन के आधार पर भाषा की सबसे छोटी इकाई वर्ण है। वर्ण भाषा की सबसे छोटी इकाई है वर्ण द्वारा व्यक्त किया जाता है। वर्ण से अक्षर बनते है।
  • NOTE:- उच्चारण की दृष्टि से भाषा की लघुत्तम इकाई ध्वनि” है।

हिंदी वर्णमाला में कितने अक्षर होते हैं

हिंदी वर्णमाला 52 वर्ण हैं। लेकिन उच्चारण के आधार पर 45 वर्ण हैं। जिनमें से 10 स्वर और 35 व्यंजन हैं। और लिखित आधार पर 52 वर्ण हैं। जिनमें 13 स्वर, 35 व्यंजन और 4 संयुक्त व्यंजन हैं।

इसके अतिरिक्त एक अन्य मत के अनुसार वर्णमाला में कुल 55 वर्ण माने गए हैं। जिनमें लेखन और मुद्रण में प्रयोग होने वाले सभी पूर्ण वर्णों को शामिल किया गया है। तथा हिंदी वर्णमाला में 52 वर्णों का मत ही अधिक प्रचिलित और ठीक प्रतीत होता है।

मानक हिंदी वर्णमाला Varnamala Hindi

हिंदी वर्णमाला में 52 वर्णों का मत ही अधिक प्रचिलित और ठीक प्रतीत होता है।

हिंदी वर्णमाला के कितने भेद होते है। (Hindi Varnamala ke Bhed)

Hindi Alphabet के दो भाग होते है

  1. स्वर (Swar)
  2. व्यंजन (Vyanjan)

Hindi Varnamala में स्वर (Vowel)

जिन वर्णों के उच्चारण के लिये किसी दूसरे वर्ण की सहायता की आवश्यकता नहीं होती अर्थात इन वर्णों को स्वतंत्र रूप से बोला जाता है वे स्वर कहलाते हैं।
पहले हिंदी वर्णमाला में स्वरों की संख्या 13 थी।
अ आ इ ई उ ऊ ऋ ऋ लृ ए ऐ ओ औ
ऋ और लृ दोनों का प्रयोग अब नहीं होता है। इस प्रकार अब Hindi Varnamala में स्वरों (Vowels) की संख्या 10 है।
NOTE:- आधुनिक उच्चारण की दृष्टि से इनकी संख्या 10 है। जैसे:-अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ

Hindi Matra

स्वरमात्राएँ
 
 ा
 ि 
 ी
 ु
 ू
 ो
 ौ

स्वर तीन प्रकार के होते है। (Swar ke Bhed)

  • 1. ह्रस्व स्वर
  • 2. दीर्घ स्वर
  • 3. प्लुत स्वर

ह्रस्व स्वर:-

वह स्वर जिसके वर्ण के उच्चारण में बहुत कम समय लगे (एक मात्रा का), उसे ह्रस्व स्वर कहते है। जैसे – अ इ उ आदि।

दीर्घ स्वर:-

वे स्वर जिनके उच्चारण में एक मात्रा (ह्रस्व स्वर) का दूना समय लगे, उसे द्विमात्रिक या दीर्घ स्वर भी कहते है।
जैसे- आ ई ऊ ऋ ए ऐ ओ औ

प्लुत स्वर:-

जिसके उच्चारण में सबसे अधिक समय (दीर्घ स्वर से भी ज्यादा) लगता है। सामन्य से इसके उच्चारण में एक मात्रा का  तिगुना समय लगता है।
जैसे – ओ३म्

जीभ के प्रयोग के आधार पर स्वरों का वर्गीकरण:-

जीभ के प्रयोग के या उच्चारण के आधार पर हम स्वरों को तीन भागों में बांट सकते हैं:-

  1. अग्र स्वर
  2. मध्य स्वर
  3. पश्च स्वर

1. अग्र स्वर

वे स्वर जिनका उच्चारण जीभ के अग्र भाग से किया जाता है। जैसे- इ, ई, ए, ऐ।

2. मध्य स्वर

वे स्वर जिनका उच्चारण जीभ के मध्य भाग से किया जाता है। जैसे – अ

3. पश्च स्वर

वे स्वर जिनका उच्चारण जीभ के पिछले भाग से होता है। आ, ओ, औ, उ, ऊ।

हवा के नाक या मुँह से निकलने वाले स्वर:-

  1.  मौखिक स्वर
  2. अनुनासिक स्वर

मौखिक स्वर

वे स्वर जिसके उच्चारण में हवा केवल मुख से बाहर निकलती है। अ, आ, इ।

अनुनासिक स्वर

वे स्वर जिनके उच्चारण में हवा मुँह और नाक दोनों से निकले

वर्णउच्चारणश्रेणी
इ, ई, च् छ् ज् झ् ञ्, य्, शतालु और जीभतालव्य
ऋ ट् ठ् ड् ढ् ण् ड़् ढ़् र् ष्मूर्धा और जीभमूर्धन्य
त् थ् द् ध् न् ल् स्    दाँत और जीभदंत्य
उ ऊ प् फ् ब् भ् मदोनों होंठ      ओष्ठ्य
अं,ङ्, ञ़्, ण्, न्, म्नासिकाअनुनासिक
अ, आ, क् ख् ग् घ्, ङ्, ह्, विसर्ग (:)कंठ और जीभ का निचला भागकंठ्य
ए ऐ          कंठ तालु और जीभकंठतालव्य
ओ औकंठ जीभ और होंठकंठोष्ठ्य
व्दाँत जीभ और होंठदंतोष्ठ्य

Also Read:-

[Hindi Varnamala FAQ’S]

हिंदी में वर्णों की संख्या कुल कितनी है? (How Many letters in Hindi language)

उत्तर:- हिन्दी में मौखिक रूप से देखा जाये तो 52 वर्ण होते हैं। इनमें 11 स्वर और 41 व्यंजन होते हैं। लिखित रूप से 56 वर्ण होते हैं इसमें 11 स्वर , 41 व्यंजन तथा 4 संयुक्त व्यंजन होते हैं।

हिंदी वर्णमाला में स्वरों की संख्या कितनी होती है?

उत्तर:- Hindi Varnamala में स्वरों (Vowels) की संख्या 10 है।

हिंदी वर्णमाला में स्वर और व्यंजन कितने होते हैं?

उत्तर:- हिंदी में वर्णों (स्वर और व्यंजन) की कुल संख्या 52 है, जिसमें 11 स्वर और 41 व्यंजन होते हैं।

ल में कितने वर्ण होते हैं?

उत्तर:- ‘ल’ के मध्य आने वाले सभी वर्ण) ह, य, व, र, ल, ग, म, ङ, ण, न, झ, भ, घ, द, ध, ज, ब, ग, ड्, द्, ख्, फ्, छ्, ठ, थ्, च्, ट्, त्, क्, प, श, ष् तथा स्।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top