LPG का फुल फॉर्म क्या है? | What is the full form of LPG in Hindi

Join Our WhatsApp Channel Join Now
Join Our Telegram Channel Join Now

Lpg full form:- वर्तमान समय लगभग सभी घरों में गैस गैस सिलिंडर का इस्तेमाल आम बात है। पहले जिनके घरो में सिलिंडर नहीं थे या वे खरीदने में सक्षम नहीं हो पा रहे थे उनको भारत सरकार के द्वारा ujjwala yojana के तहत उनको सिलिंडर वितरित किये है। अगर आप भी LGP गैस के बारे में जानेने के लिए प्रयास कर रहे है तो आप इटरनेट पर अपनी खोज को यही समाप्त कर सकते है।

LPG FULL FORM IN HINDI

आज के आर्टिकल में हम जानेगे की LPG क्या है?, और LPG के फुल फॉर्म क्या है?, और LPG का इतिहास क्या है?, LPG ka full form kya hai?, LPG के उपयोग क्या है?, LPG का हिंदी में पूरा नाम क्या है? और LPG का सूत्र क्या है।.आज के ब्लॉग में इसके बारे में बात करेंगे और जानेगे की क्या है। (LPG full form / LPG full form in hindi)

LPG FULL FORM IN HINDI(lpg ka full form):-

LPG का फुल फॉर्म “Liquefied Petroleum Gas” होता है इसे हिंदी में “तरलीकृत पेट्रोलियम गैस” कहा जाता है.
LGP KA Full Form:-  Liquefied Petroleum Gas

LPG क्या है?

Liquefied Petroleum Gas (LPG) एक रंगहीन, गंधहीन, तरल है। जो आसानी से गैस में वाष्पित हो जाती है। और हवा में आसानी से फ़ैल जाता है। गंधहीन होने के कारण लीक का पता नहीं किया जा सकता था इसमें बाद मे एक प्रकार की गंध मिलायी जाती है ताकी गैस लीक का पात किया जा सके। इस कारण प्रदूषण न के बराबर है यह सल्फर से मुक्त है

LPG Formula:-

LPG का सूत्र:- LGP तीन या चार कार्बन परमाणुओं वाले हाइड्रोकार्बन से बना होता है। इस प्रकार एलपीजी के सामान्य घटक प्रोपेन (C3H8) और ब्यूटेन (C4H10) हैं। (LPG Formula IN HINDI)

LPG ke Khoj kisne ke:-

एलपीजी खोज की डॉक्टर वाल्टर स्नेलिंग ने वर्ष 1910 में किया था. एलपीजी गंधहीन, रंगहीन होने की वजह से इसके लीक होने पर लीक का पता नहीं चल पाता था बाद में गंध मिलायी गयी।

एलपीजी गैस के उपयोग :-

  1. इसका उपयोग एलपीजी सिस्टम वाले गैसोलीन इंजन वाले वाहनों के लिए ईंधन के रूप में भी किया जा सकता है।
  2. कुकिंग करने में एलपीजी का इस्तेमाल या खाना पकाने के लिए एलपीजी का उपयोग किया जाता है।
  3. छोटे या कुटरी उद्योगों में उपयोग में लेना.
  4. घरो में पानी गर्म करने के लिए प्रोपेन टैंको में उपयोग में लेना।
  5. एलपीजी (तरलीकृत पेट्रोलियम गैस) का उपयोग अक्सर हीटिंग या खाना पकाने के लिए किया जाता है।
  6. इलेक्ट्रिसिटी में LPG का प्रयोग कई स्थानो पर होती है।

एलपीजी के खतरे क्या हैं?:-

  1. एलपीजी से त्वचा में जलन हो सकती है और यह उच्च सांद्रता में श्वासावरोध के रूप में कार्य कर सकता है। अत्यधिक ज्वलनशील होने के कारण सिलेंडर फटने पर अधिक नुकसान पंहुचा है।
  2. एलपीजी गैर संक्षारक है लेकिन स्नेहक, कुछ प्लास्टिक या सिंथेटिक रबड़ को भंग कर सकता है।
  3. यह लीक होने पर हवा में फैलने के लिए थोड़ा समय लेता है और पेंदे में बैठ जाता है इसलिए इसमें आग का खतरा बना रहता है।
  4. अगर यह अधिक मात्रा में संगृहीत (बिना कोई सेफ्टी के) किया जाता है तो  यह बड़ी तभी का कारण बन सकता है।
  5. एलपीजी वाष्प जमीन के साथ लंबी दूरी तक चल सकती है और नालियों या बेसमेंट में जमा हो सकती है। जब गैस प्रज्वलन के स्रोत से मिलती है तो वह जल सकती है या फट सकती है।

एलजीपी गैस के फायदे :-

  1. LPG एक प्रकार की गैस होती है, जो उच्च ताप और कैलोरी का मूल्य माना जाता है, क्योंकि यह बहुत ही कम समय में बहुत अधिक ऊर्जा प्रदान करता है।  एलजीपी गैस के जलने से इस गैस में किसी प्रकार की खराब गैस नहीं निकलती है बल्कि इससे एक शुद्ध और साफ गैस निकलती है।
  2. एलपीजी किसी भी मौसम में जला कर काम कर सकते है।
  3. एलपीजी का उपयोग किसी भी क्षेत्र में आसानी से किया जा सकता है।

एलपीजी की सामान्य आवश्यकताएं क्या हैं?:-

  1. जानबूझकर हस्तक्षेप को रोकने के लिए प्रतिष्ठानों में उचित सुरक्षा उपाय होने चाहिए
  2. संयंत्र पहचान योग्य और रखरखाव के लिए सुलभ होना चाहिए
  3. रखरखाव और परीक्षण का रिकॉर्ड रखा जाना चाहिए
  4. एलपीजी को एक पर्याप्त स्थान पर संग्रहित किया जाना चाहिए जहां प्रासंगिक अभ्यास संहिता के संबंध में जहाजों या सिलेंडरों को उपयुक्त रूप से रखा गया हो
  5. संयंत्र को पर्याप्त सुरक्षा और निगरानी नियंत्रण उपकरणों से सुसज्जित किया जाना चाहिए और सक्षम व्यक्तियों द्वारा संचालित किया जाना चाहिए
  6. सक्षम व्यक्तियों द्वारा रखरखाव और परीक्षण का एक उपयुक्त कार्यक्रम होना चाहिए
  7. मृत्यु या अस्पताल में भर्ती, आग या विस्फोट, या एलपीजी की एक महत्वपूर्ण रिहाई से संबंधित घटनाओं की सूचना प्राधिकरण को दी जानी चाहिए और ऐसी घटनाओं का रिकॉर्ड रखा जाना चाहिए।

Gas Leak Safety Tips:-

आजकल सभी घरो में गैस का उपयोग सामान्य हो गया है इसलिए इसके रख रखाव में कमी होने से लीक होने का खतरा बना रहता है। और कई बार लीक होने पर लोग डर जाते है लेकिन इसमें पैनिक होने के कोई वजह नहीं होती है। बस कुछ सावधानिया बरतना जरुरी है। इसलिए आप हम बातएंगे के गैस लीक होने पर क्या करे?

गैस लीक होने पर क्या करें (What to do if gas leaks):-

1. सबसे पहले सिलेंडर को करें बंद:-

सबसे पहले गैस का रेगुलेटर ऑफ कर दें. और खुद को शांत रखे, यदि गैस अधिक मात्रा में लीक हो रहा है तो आप मैन लाइन को ऑफ़ कर दे ध्यान रहे की गैस लीक होते समय कोई भी स्विच ऑन ना करे और घर के सभी दरवाजो को खोल देवे।

  • दरवाज़े-खिड़कियां खोल देवे:-

गैस लीक का जैसे ही पता चले तो आप सभी घर के सभी दरवाज़े, खिड़कियों को खोले देवे।

  • ज्वलनशील प्रकार के सामानों को वहां से हटा देवे:-

गैस के आस पास ज्वलनशील  जलते हुए सभी प्रकार के सामानो को हटा दे यदि गैस के पास अन्य गैस सिलेंडर रख हो तो उसे हटा दे।

  • सिलेंडर में आग लगने पर क्या करें

यदि किसी किसी कारण सिलेंडर में आग लग जाती है तो आपके घर में आग बुझाने का कोई इक्विपमेंट मौजूद है तो उसको भी इस्तेमाल करे इसके आलावा घर में उपलब्ध प्लास्टिक की गोल बाल्टी को सिलेंडर पर झटके से मार सकते है या आप सूती चादर, कंबल को भिगोकर सिलेंडर पर लपेट सकते है।

  1. समय-समय पर जांच:-

आप अपने गैस चूल्हे के समय-समय पर जांच करवाते रहे जैसे की रेगुलेटर और गैस के चूल्हे के बटन को समय समय पर जांच करवाकर इनको बदलाव और गैस पाइप को समय समय पर बदलाव।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top