chitragupta maharaj

श्री चित्रगुप्त जी की आरती – श्री विरंचि कुलभूषण | Shri Chitragupt Aarti In Hindi & English- Shri Viranchi Kulbhusan

Shri Chitragupt Aarti Viranchi Kulbhusan Aarti Lyrics in Hindi Viranchi Kulbhusan Aarti in Hindi|| श्री विरंचि कुलभूषण,यमपुर के धामी ।पुण्य पाप के लेखक,चित्रगुप्त स्वामी ॥ सीस मुकुट, कानों में कुण्डल,अति सोहे ।श्यामवर्ण शशि सा मुख,सबके मन मोहे ॥ भाल तिलक से भूषित,लोचन सुविशाला ।शंख सरीखी गरदन,गले में मणिमाला ॥ अर्ध शरीर जनेऊ,लंबी भुजा छाजै ।कमल दवात हाथ […]

श्री चित्रगुप्त जी की आरती – श्री विरंचि कुलभूषण | Shri Chitragupt Aarti In Hindi & English- Shri Viranchi Kulbhusan Read More »

भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती (Bhagwan Shri Chitragupt Aarti) | Chitragupta Aarti in Hindi & English

Bhagwan Shri Chitragupt Aarti Lyrics in Hindi Chitragupta Aarti in Hindi|| ॐ जय चित्रगुप्त हरे,स्वामीजय चित्रगुप्त हरे ।भक्तजनों के इच्छित,फलको पूर्ण करे॥विघ्न विनाशक मंगलकर्ता,सन्तनसुखदायी ।भक्तों के प्रतिपालक,त्रिभुवनयश छायी ॥॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥ रूप चतुर्भुज, श्यामल मूरत,पीताम्बरराजै ।मातु इरावती, दक्षिणा,वामअंग साजै ॥॥ ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥ कष्ट निवारक, दुष्ट संहारक,प्रभुअंतर्यामी ।सृष्टि सम्हारन, जन दु:ख हारन,प्रकटभये स्वामी ॥॥

भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती (Bhagwan Shri Chitragupt Aarti) | Chitragupta Aarti in Hindi & English Read More »

Scroll to Top