अश्वगंधा के फायदे, नुकसान व सेवन की विधि | Ashwagandha Benefits in Hindi

अश्वगंधा के फायदे:-दोस्तों अश्वगंधा का उपयोग हमारे देश में कई बीमारियों के रोकथाम व उपचार के लिए किया जाता है। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसमें इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इन्फ्लामेट्री गुणों के साथ-साथ कई बायोएक्टिव कम्पाउंड पाये जाते है। इनका उपयोग गठिया, नपुंसकता, भूलने की बीमारी, चिंता, कैंसर जैसी कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है तथा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक हैं। अश्वगंधा का वैज्ञानिक नाम विथानिया सोम्नीफेरा है और इसे विंटर चैरी और इंडियन गिनसेंग के नाम से जाना जाता है।

अश्वगंधा क्या है, (What is Ashwagandha):-

Ashwagandha Benefits in Hindi

अश्वगंधा के फायदे:-जैसा कि नाम से ही प्रतीत हो रहा है,अश्व यानि घोड़े जैसी ताकत। अश्वगंधा में घोड़े के मूत्र जैसी गंध आती है। अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक औषधिय जड़ी-बूटी है। जिसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक और यूनानी चिकित्सा में हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। इसकी खेती भारत देश के कुछ इलाकों में जैसे राजस्थान, पंजाब, मध्य्प्रदेश, गुजरात के साथ साथ चीन व नेपाल में भी बहुत की जाती है। इसे भारतीय लोग जिनसेंग के नाम से  भी जानते है। इसकी दो प्रकार की किस्म पायी जाती है। जो इस प्रकार है:-

  1. छोटी अश्वगंधा:- इसकी झाड़ी छोटी लगभग 0.2 से 0.3 मीटर ऊंची व सीधी होती है। इसलिए इसे छोटी अश्वगंधा कहा जाता है। छोटी अश्वगंधा की जड़ लम्बी व तना धूसर रंग का होता है। राजस्‍थान के नागौर में यह बहुत अधिक पाई जाती है।
  2. बड़ी या देशी अश्वगंधा:- इसका क्षुप बड़ा तथा जड़ें छोटी व पतली होती हैं। यह बाग-बगीचों, खेतों और पहाड़ी स्थानों में सामान्य रूप में पाई जाती है। इसमें घोड़े के मूत्र जैसी गंध आती है।

गिलोय के फायदे, उपयोग और नुकसान | Giloy Benefits and Side Effects in Hindi

अश्वगंधा खाने के फायदे (Benefits of Aating Ashwagandha):-

अश्वगंधा खाने के फायदे:-अश्वगंधा कई बीमारियों को ठीक करने में भी मदद करता है। खासकर ब्रेन से जुड़ी समस्याओं में यह बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। अश्वगंधा में अनेक औषधिय गुण पाए जाते है। जो मनुष्य को स्वस्थ बनाये रखने में मदद करता है। इस जड़ी-बूटी के अनगिनत फायदे होते है। आइये दोस्तों उनमे से कुछ फायदों के बारे में इस लेख में जानते है। जो अग्रलिखत लाभ इस प्रकार है:-

  • हड्डीयो के विकास में सुधार अश्वगंधा के फायदे:- बढ़ती हुई उम्र के अनुसार पुरुषो में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी होती जाती है। अश्वगंधा में वह गुण होता है, जो टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के स्तर को बनाये रखता है। टेस्टोस्टेरोन हार्मोन ही हमारे शरीर की मांसपेसियों व हड्डियों को मजबूत बनाता है। इस लिए अश्वगंधा का सेवन करना हमारे लिए काफी फायदेमंद होता है।
  • कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा हमारे शरीर में बढ़ रहे अनावश्यक कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है। अश्वगंधा में कई जरूरी पोषक तत्व जैसे- एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते है। जो अनावश्यक कोलेस्ट्रॉल को घटाने में सहायक होते हैं। इसलिए आप स्ट्रोक, हार्ट अटैक, कार्डियक अरेस्ट प्रमुख जैसी बीमारियों से बचने के लिए अश्वगंधा का सेवन कर सकते है।
  • हृदय रोग से बचाव के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा में मौजूद हाइपोलिपिडेमिक प्रभाव कोलेस्ट्रॉल को कम करके हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। तथा धमनियों को चिपकने नहीं देते। और स्ट्रोक, हार्ट अटैक, कार्डियक अरेस्ट प्रमुख हृदय से संबंधित बीमारियों से रक्षा करता है।
  • अनिद्रा के लिए अश्वगंधा के फायदे:-दोस्तों बढ़ती हुई उम्र व भागदौड़ की जिंदगी में अनिद्रा जैसी बीमारी हमे सताने लगती है। अनिद्रा की वजह से पाचन और मस्तिष्क से जुड़ी कई समस्याएं भी होने लगती हैं। इस समस्या से निदान पाने के लिए आप किसी भी डॉक्टर की सलाह से अश्वगंधा पाउडर का सेवन कर सकते हो। क्योकि अश्वगंधा में ट्राएथिलीन ग्लाइकोल नामक यौगिक होता है, जो गहरी नींद में सोने में मदद कर सकता है।
  • तनाव के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा का सेवन करने से हमारा तनाव भी दूर होता है। और साथ ही यह मानसिक ऊर्जा में बढ़ौतरी करता है। तनाव एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन को रिलीज करता है जिसके कारण शरीर में कोर्टिसोल नामक स्ट्रेस हार्मोन बढ़ने लगता है। यह शरीर में कोर्टिसोल के लेवल को कम करने का काम करता है, जिसकी वजह से आप स्ट्रेस से दूर रहते है।
  • यौन क्षमता में वृद्धि के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा पुरुषों में नपुंसकता को दूर करने में बहुत फायदेमंद है। अश्वगंधा का सेवन करना पुरुषो  लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके सेवन से पुरुसो के शुक्राणु की संख्या में वृद्वि होती है। अश्वगंधा की गोलियां खाने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ जाता है जो यौन इच्छा और ड्राइव को उत्तेजित करके पुरुषों को लाभ पहुंचाती हैं। और साथ ही पुरुसो की यौन इच्छा में भी वृद्वि होती है।
  • कैंसर से बचाव में अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा पाउडर होने वाले कैंसर से बचाता है। यह कैंसर की सेल्स टूमर को बढ़ने नहीं देता है और नई कैंसर सेल्स को भी बनने से रोकता है। यह ब्रेन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, स्किन कैंसर आदि घातक बीमारियों से रक्षा करता है।
  • डायबिटीज में अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा पाउडर का सेवन करने से डायबिटीज की बीमारी से बचा जा सकता है। क्योकि डायबिटीज में मौजूद हाइपोग्लाइमिक प्रभाव, ग्लूकोज की मात्रा को कम करने में सहायक हो सकता है। इसके सेवन से डायबिटीज-2 की स्टेप से बचा जा सकता है।
  • इम्यूनिटी के लिए अश्वगंधा के फायदे:- दोस्तों हमारे शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम जितना बेहतर होगा, उतना ही अच्छा होगा। क्योकि सही इम्यूनिटी सिस्टम के कारण हमारा शरीर विभिंन रोगो से लड़ने काफी अच्छा रहता है। जब आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो. यह आयुर्वेदिक औषधि इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के लिए काफी असरदार साबित हो सकती है।
  • थायराइड के लिए अश्वगंधा के फायदे:- हमारे गले में थायराइड नाम की एक ग्रंथि होती है। जो की थायराइड हार्मोन का निर्माण करती है। अगर हमारे शरीर में इस थायराइड हार्मोन की कमी हो जाती है। तो शरीर में कई विकार उतपन हो जाते है, जैसे शरीर का वजन कम या ज्यादा होना आदि। यह टेस्टोस्टेरॉन और एंड्रोजन हार्मोन को भी बढ़ाता है। इस समस्या के समाधान के लिए अश्वगंधा पाउडर का सेवन किसी डॉक्टर की सलाह पर किया जा सकता है।
  • अर्थराइटिस में अश्वगंधा के फायदे:- अर्थराइटिस से ग्रस्त रोगियों के लिए अश्वगंधा पाउडर का सेवन करना लाभदायक होता है। क्योकि अर्थराइटिस से ग्रस्त रोगियों में सूजन व घुटनो में दर्द रहता है। इसके लिए आप अश्वगंधा पाउडर का सेवन दूध के साथ कर सकते हैं।
  • आंखों की बीमारी के लिए अश्वगंधा खाने के फायदे:-आजकल लोग डिजिटल की दुनिया में आखो से जुडी अनेक बीमारियों का शिकार हो रहे है। अश्वगंधा और शहद का एक साथ सेवन करने से आंखों की रोशनी को बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए रोजाना 5 ग्राम अश्वगंधा और एक चमच्च शहद को एक साथ मिलाकर सेवन करने से आखो की रोशनी बढ़ती है। और साथ ही इसमें मौजूग गुण आंखों का धुंधलापन कम करता है।
  • याददाश्त के लिए अश्वगंधा खाने के फायदे:- आजकल के खानपान व दैनिक दिनचर्या के कारण हमारी याददाश्त अथार्थ भूलने की समस्या बहुत ज्यादा हो रही है। अश्वगंधा में विशेष अर्क होते हैं जो मस्तिष्क के कार्यो व गतिविधियों में सुधार कर सकते हैं। इसलिए बढ़ती चिंता और जटिल तनाव पर ब्रेक लगाने के लिए हमे रोजाना एक चमच्च अश्वगंधा पाउडर का सेवन करना चाहिए।
  • संक्रमण से बचाव के लिए अश्वगंधा खाने के फायदे:-अश्वगंधा एक प्राचीन औषधीय जड़ी-बूटी है, जो कई तरह की बीमारियों से बचाती है। अश्वगंधा में एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। यह गुण रोग जनक बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ने में मदद कर सकता है। अश्वगंधा के सेवन से आंत संबंधी समस्याएं और फूड पॉइजनिंग की बीमारी से बचा जा सकता है।
  • वजन कम करने के लिए अश्वगंधा खाने के फायदे:- अश्वगंधा के सेवन से बढ़ते हुए वजन को कम किया जा सकता है। इसके लिए एक चमच्च अश्वगंधा पाउडर को पानी के साथ रोज सुबह सेवन करना चाहिए। अश्वगंधा की जड़ के अर्क का सेवन करने से भूख और वजन में कमी आती है।
  • चिंता और अवसाद के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा का सेवन से चिंता और अवसाद को कम किया जा सकता है। अश्वगंधा के बायोएक्टिव कंपाउंड्स में एंक्सियोलिटिक और एंटी-डिप्रेसेंट जैसी क्रियाएं मिलती हैं। यह चिंता से मुक्ति दिलाकर दिमाग को शांत करता है।
  • मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा का सेवन करने से हमारा मस्तिष्क स्वास्थ्य भी सही रहता है। जैसा की पहले बता चुके है कि श्वगंधा मस्तिष्क के विकार चिंता, अवसाद और तनाव को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा अश्वगंधा शरीर और मस्तिष्क के लिए भी कई अन्य प्रकार से भी फायदेमंद होता है।
  • एजिंग से बचाने में अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा आपकी त्वचा के अंदर कोलेजन को बढ़ाती है जिसके कारण त्वचा की परत मोटी होती है और आपके चेहरे की रौनक बनी रहती है। इसके साथ ही अश्वगंधा के सेवन से बढ़ती हुई उम्र को व चहेरे पर झुर्रियां व ढीली त्वचा को रोकता है।  इसके लिए एक चमच्च अश्वगंधा पाउडर को दूध में ड्राई फ्रूट्स के साथ रोज सेवन करना चाहिए।
  • घाव भरने के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा की जड़ो को पीसकर घाव पर लगाने से घाव जल्दी भरता है। और साथ ही किसी भी प्रकार के इंफेकशन से बचाता है। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल प्रभाव घाव में पनपने वाले जीवाणुओं को खत्म करके इंफेक्शन के खतरे को रोक सकता हैं।
  • बालों के लिए अश्वगंधा के फायदे:- दोस्तों अश्वगंधा बालो की जड़ो के लिए काफी फायदेमंद होता है। उनमें रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है। जिससे बालो को पूरा पोषण मिलता है।  यह आयुर्वेदिक औषधि बालों में मेलानिन के उत्पाद को बढ़ाती है। मेलेनिन एक प्रकार का पिगमेंट होता है, जो बालों को समय से पहले सफ़ेद होने से बचता है। इसके साथ ही यह स्ट्रेस को खत्म करके डैंड्रफ दूर कर सकता है।
  • पेट के लिए अश्वगंधा के फायदे:- अश्वगंधा का सेवन करने से हमारे पेट की कई सारी बीमारी भी टिक होती है। अश्वगंधा चूर्ण का सेवन सही मात्रा और सही तरीके से करने पर कब्ज की समस्या से राहत मिल सकती है।
  • अश्वगंधा के फायदे बुखार में :- 2 ग्राम अश्‍वगंधा चूर्ण तथा 1 ग्राम निम् गिलोय जूस को मिलकर सेवन करने से बुखार में राहत मिलती है। इसे हर दिन शाम को गुनगुने पानी या शहद के साथ खाने से पुराना बुखार ठीक होता है।

अश्वगंधा किस रूप में उपलब्ध है और इसका उपयोग कैसे करें?

दोस्तों अश्वगंधा बाजार में कई रूपों में उपलब्ध है। यह अधिकतर पाउडर या केप्सूल के रूप में उपलब्ध होता है। इसके अलावा, बाजार में या फिर ऑनलाइन अश्वगंधा चाय, अश्वगंधा कैप्सूल और अश्वगंधा का रस भी आसानी से मिल जाता है।

अब बात आती है कि इसका उपयोग कैसे किया जाये? दोस्तों सबसे मह्त्वपूर्ण बात यह है कि इसका सेवन करने से पहले किसी डॉक्टर की सलाह व परामर्श के आधार पर ही किया जाये। क्योकि इसकी सेवन की मात्रा हर व्यक्ति की समस्या के आधार पर तय की जाती है। इसी वजह से अश्वगंधा चूर्ण के उपयोग का तरीका, खुराक और उसकी अवधि तीनों बातों का ख्याल रखा जाना चाहिए।

अश्वगंधा का पाउडर बनाने की विधि:-

आइये दोस्तों घर पर अश्वगंधा का पाउडर कैसे बनाया जाता है। घर पर अश्वगंधा का पाउडर बनाना बेहत ही आसान होता है। इसके लिए 100 ग्राम अश्वगंधा की जड़ लेकर धुप में 5 से 7 दिन सूखा लेंगे। अगर उसमें नमी होगी, तो वह निकल जाएगी। अब इसे किसी शिल्पट्टे या मिक्सर में डालकर पीस लेंगे। इसके पच्चात इसे किसी कपड़े के द्वारा छान ले। इस प्रकार अश्वगंधा का पाउडर बनकर तैयार है।

अश्वगंधा के नुकसान (Disadvantages of Ashwagandha):-

किसी भी दवा या आयुर्वेदिक औसधि का सेवन करने से जितने फायदे होते है। उतने ही इसके नुकसान भी हो सकते है। अश्वगंधा के कारण शरीर को नुकसान इसकी अधिक मात्रा के कारण हो सकते है। इसलिए, इसकी संयमित मात्रा का ही सेवन करना चाहिए। चलिए, अब जानते हैं कि अश्वगंधा के नुकसान क्या-क्या हैं। जो इस प्रकार है:-

  1. अश्वगंधा का अधिक मात्रा में सेवन करने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानी, दस्त और उल्टी हो सकते है।
  2. गर्भवती महिलाओ को इसका सेवन करने से दूर रहना चाहिये। क्योंकि इसके सेवन से समय से पहले ही प्रसव होने का खतरा रहत है।
  3. अगर किसी डायबिटीज मरीज के पहले से ब्लड शुगर लेवल की दवा चल रही है। तो इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  4. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में समस्या पैदा हो सकता है। इसलिए, अश्वगंधा का सेवन करते समय शराब और अन्य मादक पदार्थों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।
  5. अश्वगंधा का सेवन लगातार लम्बे समय तक नहीं करना चाहिए। क्योकि इसकी तासीर बहुत गर्म होती है।
  6. अगर किसी व्यक्ति के आंत से संबधित समस्या है। तो उसे किसी डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए।

अश्वगंधा के सेवन की विधि :-

दोस्तों अश्वगंधा का सेवन हर कोई अलग-अलग तरिके से सेवन करते है। अश्वगंधा के सेवन की विधि इस प्रकार है:-

  1. अश्वगंधा के फायदे का सेवन शहद, पानी और घी के साथ मिलाकर रोज सुबह खाली पेट करना चाहिए।
  2. कई लोग इसका सेवन चाय के साथ भी सेवन करते है। इससे शरीर स्वस्थ्य रहता है।
  3. अश्वगंधा के फायदे:-अश्वगंधा का सेवन काढ़ा बनाने में भी किया जाता है। इसके लिए 2 ग्राम अश्व गंधा चूर्ण तथा 1 ग्राम निम् गिलोय जूस को मिलकर सेवन करने से बुखार में राहत मिलती है।
  4. अश्वगंधा के फायदे:-अश्वगंधा की जड़ और चिरायता को बराबर मात्रा में लेकर अच्‍छी तरह से कूट कर मिश्रण बना ले। और इस मिश्रण 2-4 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करने से शरीर की दुर्बलता खत्‍म हो जाती है।
  5. अश्वगंधा के फायदे:-एक गिलास गुनगुने दूध के साथ एक ग्राम अश्वगंधा चूर्ण में 125 मिग्रा मिश्री डालकर सेवन करने से वीर्य विकार दूर होकर वीर्य मजबूत होता है तथा बल बढ़ता है।

अश्वगंधा कहां से खरीदें?

अश्वगंधा मार्केट में किसी भी पंसारी की दुकान पर आसानी से मिल जाती है। आजकल बड़े-बड़े ग्रॉसरी स्टोर भी अश्वगंधा के पाउडर व इसकी जड़ के पैकेट रखते हैं। इसके साथ ही अश्वगंधा ऑनलाइन स्टोर Meesho, Flipkart, Amzone और अन्य स्टोर्स से भी खरीद सकते है।

अस्वीकरण:- इस लेख में दी जानकारी डॉक्टर, विशेषज्ञों की सलाह पर दी गई है। लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top