Arch Dhatu Roop in Sanskrit | भ्वादिगण तथा परस्मैपदी धातु रूप

नमस्कार दोस्तों, यहाँ पर आपको अर्च् धातु के रूप संस्कृत में सिखने को मिलने वाला है। छात्रों से अक्सर स्कूलों और प्रतियोगिता परीक्षाओं में भी Arch Dhatu Roop in Sanskrit में लिखने के लिए कहा जाता हैं। अर्च् धातु रूप के बारे मे काफी छात्र सीखना चाहते है। और इंटरनेट पर भी इसके बारे मे जानकारी खोजते रहते है। इसलिए मेने इस लेख के माध्यम से आपको अर्च् धातु रूप के बारे मे बता रहे  है। अर्च् धातु का अर्थ है ‘पूजा करना, to worship’। यह भ्वादिगण तथा परस्मैपदी धातु है। सभी भ्वादिगण धातु के धातु रूप इसी प्रकार बनते है जैसे- अस्, गुह्, गम्, घ्रा, भू-भव्, तप्, जि, आदि। Arch Dhatu Roop संस्कृत में सभी पुरुष एवं वचनों में नीचे दिए गए हैं।

Arch Dhatu Roop

1 . लट् लकार (वर्तमान काल, Present Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्चतिअर्चतःअर्चन्ति
मध्यम पुरुषअर्चसिअर्चथःअर्चथ
उत्तम पुरुषअर्चामिअर्चावःअर्चामः
Arch Dhatu Roop

2. लृट् लकार (भविष्यत काल, Future Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्चिष्यतिअर्चिष्यत:अर्चिष्यन्ति
मध्यम पुरुषअर्चिष्यसिअर्चिष्यथ:अर्चिष्यथ
उत्तम पुरुषअर्चिष्यामिअर्चिष्याव:अर्चिष्याम:
Arch Dhatu Roop

3. लङ् लकार (भूतकाल, Past Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषआर्चत्आर्चताम्आर्चन्
मध्यम पुरुषआर्चःआर्चतम्आर्चत
उत्तम पुरुषआर्चम्आर्चावआर्चाम
Arch Dhatu Roop

4. लोट् लकार (आज्ञा के अर्थ में, Imperative Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्चतुअर्चताम्अर्चन्तु
मध्यम पुरुषअर्चअर्चतम्अर्चत
उत्तम पुरुषअर्चानिअर्चावअर्चाम
Arch Dhatu Roop

5. विधिलिङ् लकार (चाहिए के अर्थ में, Potential Mood)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्चेत्अर्चेताम्अर्चेयु:
मध्यम पुरुषअर्चे:अर्चेतम्अर्चेत
उत्तम पुरुषअर्चेयम्अर्चेवअर्चेम

6. लुङ् लकार (सामान्य भूतकाल, Perfect Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषआर्चीत्आर्चिष्टाम्आर्चिषुः
मध्यम पुरुषआर्चीःआर्चिष्टम्आर्चिष्ट
उत्तम पुरुषआर्चिषम्आर्चिष्वआर्चिष्म

7. लिट् लकार (परोक्ष भूतकाल, Past Perfect Tense)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषआनर्चआनर्चतुःआनर्चुः
मध्यम पुरुषआनर्चिथआनर्चथुःआनर्च
उत्तम पुरुषआनर्चआनर्चिवआनर्चिम

8. लुट् लकार (अनद्यतन भविष्य काल, First Future Tense of Periphrastic)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्चिताअर्चितारौअर्चितार:
मध्यम पुरुषअर्चितासिअर्चितास्थ:अर्चितास्थ
उत्तम पुरुषअर्चितास्मिअर्चितास्व:अर्चितास्म:

9. आशिर्लिङ् लकार (आशीर्वाद हेतु, Benedictive Mood)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषअर्च्यात्अर्च्यास्ताम्अर्च्यासुः
मध्यम पुरुषअर्च्याःअर्च्यास्तम्अर्च्यास्त
उत्तम पुरुषअर्च्यासम्अर्च्यास्वअर्च्यास्म

10. लृङ् लकार (हेतुहेतुमद् भविष्य काल, Conditional Mood)

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथम पुरुषआर्चिष्यत्आर्चिष्यताम्आर्चिष्यन्
मध्यम पुरुषआर्चिष्य:आर्चिष्यतम्आर्चिष्यत
उत्तम पुरुषआर्चिष्यम्आर्चिष्यावआर्चिष्याम

आपको यह लेख (पोस्ट) कैंसा लगा? हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएँ। gk-help.com पर हमारी टीम शीघ्र ही आपके कमेंट का जवाब देगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top