जय दुर्गे जय दुर्गे: मंत्र – Jaya Durge Daya Durge

Jaya Durge Daya Durge :-  दुर्गा या आदिशक्ति हिन्दुओं की प्रमुख देवी मानी जाती हैं जिन्हें प्रकृति देवी, देवी, शक्ति, आदिमाया, भगवती, माता रानी, जग्दम्बा, सनातनी देवी आदि नामों से भी जाना जाता हैं। जब जीव पूर्ण गुरु द्वारा ब्रह्मज्ञान प्राप्त कर ईश्वर की ध्यान-साधना में उतरता हैं तब उसकी चेतना जाज्वल्यवान हो उठती है, उसके भीतर दैवी शक्तियों का पुँज जागृत होता हैं |

दुर्गा का निरूपण सिंह पर सवार एक देवी के रूप में की जाती है। दुर्गा देवी आठ भुजाओं से युक्त हैं जिन सभी में कोई न कोई शस्त्रास्त्र होते है। उन्होने महिषासुर नामक असुर का वध किया। (महिषासुर = महिष + असुर = भैंसा, जैसा असुर) करतीं हैं। हिन्दू ग्रन्थों में वे शिव की पत्नी दुर्गा के रूप में वर्णित हैं।

Jaya Durge Daya Durge
jaya jaya durge

जय दुर्गे जय दुर्गे: मंत्र
 || Jaya Durge Daya Durge ||

जय दुर्गे जय दुर्गे,
महिषविमर्दिनी जय दुर्गे ।
जय दुर्गे जय दुर्गे,
महिषविमर्दिनी जय दुर्गे ।
मंगलकारिणी जय दुर्गे,
जगज्जननी जय जय दुर्गे ।
मंगलकारिणी जय दुर्गे,
जगज्जननी जय जय दुर्गे ॥

वीणापाणिनी पुस्तकधारिणी,
अम्बा जय जय वाणी ।
जगदम्बा जय जय वाणी ॥

वीणापाणिनी पुस्तकधारिणी,
अम्बा जय जय वाणी ।
जगदम्बा जय जय वाणी ॥
वेदरूपिणी सामगायनी,
अम्बा जय जय वाणी ।
जगदम्बा जय जय वाणी ॥
वेदरूपिणी सामगायनी,
अम्बा जय जय वाणी ।
जगदम्बा जय जय वाणी ॥

Jaya Durge Daya Durge lyrics in English

Jai Durge Jai Durge,
Mahishvimardini Jai Durge ।
Jai Durge Jai Durge,
Mahishavimardini Jai Durge ।
Mangalkarini Jai Durge,
Jagajjanani Jai Jai Durge ।
Mangalkarini Jai Durge,
Jagajjanani Jai Jai Durge ॥
 
Veenapanini Pustakadharini,
Amba Jai Jai Vaani ।
Jagadmba Jai Jai Vaani ॥
 
Veenapanini Pustakdharini,
Amba Jai Jai Vaani ।
Jagdamba Jai Jai Vaani ॥
 
Vedroopini Samagayani,
Amba Jai Jai Vaani ।
Jagdamba Jai Jai Vaani ॥
 
Vedaroopini Samagayani,
Amba Jai Jai Vaani ।
Jagdamba Jai Jai Vaani ॥

शेर का मुंह खुला होने से क्या होता है?

यह आपकी भावना की बात है। यदि आपको शेर का खुला मुख देखकर भय लगता है तो आप मत रखिये। यह कोई अपरिहार्य नियम नहीं है। शेर का खुला मुख क्रोध को दिखा रहा है यह भी आपकी ही भावना है।

मां दुर्गा को कौन सा फल पसंद है?

माता को पान-सुपारी भी अर्पित कर सकते हैं. इसके साथ ही माता को सेब का फल अत्यंत प्रिय है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top